।। पांडुरंग है आएं ।।

        


मन मधुकर क्युं गीत गाएं?

        पांडुरंग है आएं।

सरल कथन है, गहन मनन है,

भाव नयन है, मधुर कवन है,

                     वनमाली वनसे आएं।                    

                                                                     पांडुरंग . . .

 

 धर्म धेनुका गोरस लाएं,

 जीवनमें सबरस बन आएं,

                  दिलमें उत्सव बन छाएं ।                

                                                                     पांडुरंग . . .

 

कवि काव्यका रूपक तुम हो,

संगीतमें स्वर धडकनभी हो,

                   हैं सामवेद बन आएं।                     

                                                                    पांडुरंग . . .

 

कंठ कंठमें एक ही सुर हैं,

एक ही रंगमें सब चकचूर हैं,

          हैं स्नेह सुमन मुस्काएं।                  

                                                                    पांडुरंग . . .

0 टिप्पणियां