नवंबर, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैंसभी दिखाएं
स्वाध्यायरूप भगवदकार्य के पंचप्राण

स्वाध्यायरूप भगवदकार्य के पंचप्राण     स्वाध्यायरूप भगवदकार्य के पंचप्राण 1)उत्कट ईश्वरी श्रद्धा 2)चातुर्वर्ण्यव्यवस्था का उत्कट उलगड़ा (सही राज) 3)सुंदर अर्थव्यवस्था 4)उचनीचता का अभाव 5) भक्तिकी सुमधुर दृष्टि सबसे महत्वपूर्ण बात…